माइग्रेन पेन के ज्योतिषीय कारण

migraine-pain-problem
 4666 Views
 0 Comments
 October 12, 2016

वर्तमान समय में माइग्रेन (आंधाशीशी या अर्धकापरि) की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है अधिकांश लोगों के जीवन में माइग्रेन पेन एक बड़ी बाधा के रूप में बना रहता है चीकित्सीय दृष्टि से माइग्रेन या आंधाशीशी एक तीव्र प्रकार का सिरदर्द है जिसमे सिर के एक भाग में असहनीय पीड़ा होती है और यह दर्द कुछ घंटों से लेकर लगातार कई दिनों तक भी बना रह सकता है वैसे तो बदलती जीवनचर्या भागदौड़ से भरा जीवन लगातार रहने वाला तनाव, हाई बी.पी. मानसिक या भावनात्मक आघात और स्नायु तंत्र की गड़बड़ी को भी माइग्रेन पेन की उत्पत्ति का कारण माना गया है, अब ज्योतिषीय दृष्टि से देखें तो कुछ विशेष ग्रह और ग्रहयोगों माइग्रेन की समस्या उत्पन्न करते हैं।

ज्योतिषीय दृष्टि में चन्द्रमाँ को ही हमारे मन, मानसिक और भावनात्मक गतिविधियों मस्तिष्क में चलने वाले विचारों, मानसिक या भावनात्मक पीड़ा आदि का कारक माना गया है इसीलिए कुंडली में चन्द्रमाँ पीड़ित होने पर अक्सर ही व्यक्ति को स्ट्रेस और सिर दर्द की समस्या बनी रहती है अब विशेष बात यही है के माइग्रेन पेन की उत्पत्ति में भी पीड़ित चन्द्रमाँ का ही रोल होता है कुंडली में जब चन्द्रमाँ बहुत पीड़ित और कमजोर स्थिति में होता है तो व्यक्ति को माइग्रेन की समस्या होने की संभावनाएं बहुत बढ़ जाती हैं, विशेष रूप से पीड़ित चन्द्रमाँ के कारण ही व्यक्ति को माइग्रेन की समस्या का सामना करना पड़ता है इसके अलावा बुध क्योंकि मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम को गवर्न करता है इसलिए बुध का पीड़ित स्थिति में होना भी इसमें अपनी सहायक भूमिका निभाता है। कुंडली में यदि चन्द्रमाँ नीच राशि (वृश्चिक) में हो, राहु, केतु या शनि के साथ होने से पीड़ित हो चन्द्रमाँ पर राहु केतु या शनि की दृष्टि हो, चन्द्रमाँ कुंडली के छटे या आठवे भाव में हो, सूर्य से पूर्णअस्त हो, चन्द्रमाँ अष्टमेश और षष्टेश के साथ होने से पीड़ित हो तो ऐसे में अधिकांशतः ही व्यक्ति को माइग्रेन पेन की समस्या होती है तथा चन्द्रमाँ के अलावा यदि बुध भी पीड़ित होना नीचस्थ होना, छटे, आठवे होना अष्टमेश से पीड़ित होना  इस समस्या को तीव्र बना देता है। यदि कुंडली में चन्द्रमाँ बहुत पीड़ित हो तो ऐसे में चन्द्रमाँ की दशा भी माइग्रेन की समस्या देती है। पीड़ित चन्द्रमाँ पर बृहस्पति की दृष्टि होने पर यह विकट रूप नहीं लेती नियंत्रण में होती है तथ चिकित्सा से व्यक्ति को लाभ मिल जाता है।

माइग्रेन की समस्या में चिकित्सीय परामर्श और ट्रीटमेंट तो सर्वप्रथम है ही पर ज्योतिषीय दृष्टि से कुछ विशेष उपाय भी इस समस्या के समाधान में निश्चित ही सहायक होंगे।

उपाय

  1. 1. सोम सोमाय नमः का जाप करें।
  2. 2. प्रत्येक सोमवार को गाय को बताशे खिलाएं।
  3. 3. मस्तक पर सफ़ेद चन्दन का तिलक लगाएं।
  4. 4. प्रतिदिन दूध और जल के मिश्रण से शिवलिंग का अभिषेक करें।
  5. 5. किसी योग्य ज्योतिषी की सलाह के बाद यदि आपके लिए शुभ हो तो मोती धारण कर सकते हैं।
  6. 6. प्रातः काल में उद्गीथ प्राणायाम ( का धीर्घ उच्चारण) करें।
  7. 7. महामृत्युंजय मन्त्र का यथा शक्ति जाप करें।

।। श्री हनुमते नमः।।

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.