वर्ष 2017 में जानिए बारह राशियों का हाल

 4634 Views
 0 Comments
 December 30, 2016

प्रतिवर्ष की तरह एक बार फिर से नवीन ऊर्जा उत्साह और उल्लास के साथ नववर्ष का आगमन हो रहा है तथा प्रत्येक व्यक्ति नयी आशाओं और शुभ की कामना के साथ नव वर्ष का स्वागत कर रहा है नये वर्ष को लेकर सभी व्यक्तियों के मन में एक और जहाँ उत्साह का भाव है वहीँ नए वर्ष को लेकर बहुत सी जिज्ञासाएँ भी मन में उठ रही है। तो आईये जानते हैं कैसा होगा वर्ष 2017 में बारह  राशियों का हाल

बारह राशियों के लिए वर्ष 2017 –

मेष राशि – मेष राशि वाले व्यक्तियों के लिए वर्ष 2017 बहुत शुभ परिवर्तन करने वाला होगा वर्ष के आरम्भ में ही 26 जनवरी को शनि के धनु राशि में आने से मेष राशि पर चल राशि शनि की ढैया समाप्त हो जाएगी जिससे पिछले लंबे समय से जीवन में चल रहा संघर्ष और बाधाएं रुकेंगी चल रही स्वस्थ समस्याओं में सकारात्मक  परिवर्तन आएगा, उत्साह और पराक्रम में वृद्धि होगी, आजीविका या करियर में उन्नति होगी नए सुअवसर मिलेंगे तथा आय के स्त्रोत बढ़ेंगे आर्थिक उन्नति होगी, इस वर्ष अगस्त माह से गृहकलेश और पारिवारिक विवाद बढ़ेंगे पर इसके अतिरिक्त कुल मिलाकर वर्ष 2017 मेष राशियों के लिए शुभ परिवर्तन करने वाला होगा।

उपाय –

  1. प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  2. प्रतिमाह कुष्ठाश्रम में कुछ खाद्य पदार्थ अवश्य दान करें।

वृष राशि – वृष राशि के व्यक्तियों के लिए वर्ष 2017 संघर्षकारी रहेगा 26 जनवरी से वृष राशि पर शनि की ढैया शुरू होगी जिस कारण कार्यों में संघर्ष बढ़ेगा और अपने कार्यों की सफलता के लिए आपको अधिक और निरन्तर प्रयास करने की आवश्यकता होगी, इस वर्ष विशेष रूप से स्वाथ में उतार चढ़ाव आएगा, स्वास्थ समस्याएं बढ़ेंगी इसलिए स्वास्थ के प्रति सचेत रहें, इस वर्ष विशेष रूप से अगस्त माह तक पारिवारिक विवाद और करियर को लेकर संघर्ष की स्थिति बनी रहेगी जिसमे अगस्त के बाद बाधाएं कम होंगी, इस वर्ष कार्यों में संघर्ष की स्थिति तो रहेगी परंतु धनागमन नियमित रहेगा और आर्थिक आवश्यकताएं पूरी होती रहेंगी।

उपाय –

  1. ॐ शम शनैश्चराय नमः का जाप करें (एक माला रोज)
  2. प्रत्येक शनिवार को साबुत उडद का दान करें।

मिथुन राशि – मिथुन राशि के व्यक्तियों के लिए वर्ष 2017 मध्यम रहेगा मानसिक तनाव बढ़ेगा, करियर की स्थिति अच्छी रहेगी मेहनत तो अधिक करनी होगी पर कार्य पूरे होते रहेंगे, पर वैवाहिक जीवन को लेकर कुछ तनाव बढ़ सकता है अतः व्यर्थ विवादों से बचें, 17 अगस्त के बाद का समय स्वास्थ की दृष्टि से उतार चढ़ाव वाला होगा स्वासमस्याएं बढ़ेंगी तथा आर्थिक संघर्ष की स्थिति भी बनेगी धनागमन निरंतर चलता रहेगा परंतु प्राप्त धन एकत्रित नहीं हो पायेगा कुल मिलाकर वर्ष आपके लिए मध्यम रहेगा।

उपाय –

  1. बुधवार को गणेश जी को बूंदी के लड्डू चढ़ाएं।
  2. प्रतिदिन कुत्तों को भोजन दें।

कर्क राशि – कर्क राशि वाले व्यक्तियों के लिए इस वर्ष स्वास्थ की स्थिति में उतार चढाव बना रहेगा जिसमे अगस्त माह के बाद सुधार होगा पर भाग्य निरंतर आपका साथ देगा और किये गए प्रयासों का शुभ परिणाम मिलेगा, पराक्रम में वृद्धि होगी विरोधियों पर विजय मिलेगी, धनागमन और आय के स्तोत्र नियमित बने रहेंगे परंतु प्राप्त हुए धन को स्थिर रखने में समस्याएं होंगी, 17 अगस्त के बाद का समय वैवाहिक जीवन में तनाव बढ़ाएगा अतः व्यर्थ विवादों से बचें, 12 सितम्बर के बाद का समय करियर के लिए विशेष शुभ फल देने वाला होगा।

उपाय –

  1. ॐ गं गणपतये नमः का नियमित जाप करें।
  2. शनिवार को साबुत उडद और चावल का मिश्रण गरीब व्यक्ति को दान दें।

सिंह राशि – सिंह राशि के व्यक्तियों के लिए यह वर्ष मिश्रित परिणाम देने वाला होगा 26 जनवरी को सिंह राशि पर लम्बे समय से चल रही शनि की ढैय्या समाप्त हो जाएगी जिससे निरंतर चल रहे संघर्ष में कमी आएगी, चल रहे गृहकलेश या पारिवारिक विवादों में सकारात्मक परिवर्तन होगा और जीवन रफ्तार पकड़ेगा, रुके हुए कार्य पूरे होंगे और किये गए कार्यों में सफलता मिलेगी पर वैवाहिक जीवन में विवादों से बचने का प्रयास करें अन्यथा समस्याएं बढ़ सकती हैं, करियर और आर्थिक स्थिति अगस्त माह तक अच्छी रहेगी पर 17 अगस्त के बाद से खर्चे बढ़ेंगे और अधिक व्यय के कारण आर्थिक अस्थिरता की स्थिति बनेगी तथा करियर की स्थिति को स्थिर रखने के लिए अधिक प्रयास करने होंगे।

उपाय –

  1. आदित्य हृदय स्तोत्र का प्रतिदिन पाठ करें।
  2. प्रतिदिन पक्षियों को भोजन दें।

कन्या राशि – कन्या राशि वाले व्यक्तियों के लिए वर्षारम्भ में संघर्ष बढ़ेगा 26 जनवरी को शनि के धनु राशि में आने से कन्या राशि पर शनि की ढैय्या शुरू होगी जिससे कार्यों में संघर्ष बढ़ेगा, आपके कार्य पूरे अवश्य होंगे पर अधिक मेहनत और निरंतर प्रयास के बाद, अगस्त तक का समय आर्थिक दृष्टि से अस्थिरता वाला रहेगा खर्चे बहुत अधिक होंगे जिससे धन स्थिर नहीं हो पायेगा परंतु 17 अगस्त के बाद से चल रहे अनियंत्रित खर्चों में कमी आएगी और चल रही आर्थिक समस्या में सुधार होगा और अगस्त के बाद धन लाभ बढ़ेगा तथा करियर में भी अच्छे परिवर्तन होंगे।

उपाय –

  1. प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  2. शनिवार को साबुत उडद गरीब व्यक्ति को दान दें।

तुला राशि – तुला राशि वाले व्यक्तियों के लिए यह वर्ष अच्छा और शुभ परिवर्तन लेकर आएगा 26 जनवरी को शनि के धनु राशि में आने साथ ही तुला राशि पर चल रही शनि की साढेसाती समाप्त हो जाएगी जिससे जीवन में लम्बे समय से चल रहा संघर्ष और उतार चढ़ाव रुकेगा और जीवन की गतिशीलता बढ़ेगी, उत्त्साह और पराक्रम बढ़ेगा, भाग्य में वृद्धि होगी रुके हुए कार्य पूरे होंगे और किये गए प्रयासों में सफलता मिलेगी जनवरी माह के बाद से लंबे समय से चल रहे आर्थिक संघर्ष में भी सकारात्मक परिवर्तन आएंगे तो कुल मिलाकर यह वर्ष  आपके लिए अच्छा होगा पर 17 अगस्त के बाद से पारिवारिक विवाद बढ़ सकते हैं अतः इस समय में व्यर्थ के विवादों से बचने का प्रयास करें।

उपाय –

  1. प्रतिदिन श्री सूक्त का पाठ करें।
  2. प्रतिदिन कुत्तों को भोजन दें।

वृश्चिक राशि – वृश्चिक राशि वाले व्यक्तियों के लिए यह वर्ष अधिक शुभ न होकर मिश्रित फल देने वाला होगा 26 जनवरी को शनि के धनु राशि में आने पर वृश्चिक राशि पर चल राही साढेसाती की दूसरी ढैय्या समाप्त होकर तीसरी ढैय्या शुरू होगी शनि के वृश्चिक राशि में से निकलकर धनु राशि में आना वृश्चिक राशि ले व्यक्तियों के लिए एक सकारात्मक परिवर्तन होगा जिससे चल रहे मानसिक तनाव और चल रहे संघर्ष में कमी तो अवश्य आएगी पर साढेसाती के प्रभाव के कारण अभी भी कार्यों में सफलता के लिए अधिक मेहनत और निरंतर प्रयास करने की आवश्यकता होगी, आर्थिक पक्ष और करियर में संघर्ष की स्थिति रहेगी पर अगस्त माह के बाद करियर में लम्बे समय से चल रहे संघर्ष में कमी आएगी और स्थिरता बढ़ेगी। अगस्त माह तक का समय गृहकलेश और पारिवारिक विवाद उत्पन्न होंगे जिनमे अगस्त माह के बाद सकारात्मक परिवर्तन आएंगे।

उपाय –  

  1. हनुमान चालीसा का रोज पाठ करें।
  2. शनिवार को साबुत उडद गरीब व्यक्ति को दान करें।

धनु राशि – धनु राशि के व्यक्तियों के लिए यह वर्ष संघर्ष पूर्ण ही रहेगा 26 जनवरी को शनि के धनु राशि में प्रवेश करने से पिछले लम्बे समय से चल रहे अनियंत्रित खर्चों और आर्थिक संघर्ष में तो कमी आएगी पर शनि के धनु राशि में आने धनु राशि पर चल राशि साढेसाती आपने चरम पर होगी इसलिए कुल मिलाकर जीवन में संघर्ष की स्थिति तो बनी ही रहेगी और अपने कार्यों की सफलता के लिए अधिक परिश्रम करना होगा, 17 अगस्त के बाद का समय स्वास्थ की दृष्टि से समस्याएं उत्पन्न करेगा।

उपाय –

  1. ॐ शम शनैश्चराय नमः का जाप करें (एक माला रोज)
  2. शनिवार को साबुत उडद गरीब व्यक्ति को दान करें।

मकर राशि – मकर राशि के व्यक्तियों के लिए यह वर्ष संघर्ष बढ़ाने वाला होगा 26 जनवरी से शनि के धनु राशि में आने के साथ ही मकर राशि पर शनि की साढेसाती शुरू हो जाएगी जिससे जीवन में संघर्ष बढ़ेगा और किसी भी कार्य की सफलता के लिए बहुत अधिक प्रयास करने होंगे, जनवरी माह के बाद विशेष रूप से आर्थिक संघर्ष बढ़ेगा अनियंत्रित खर्चों के कारण आर्थिक अस्थिरता बढ़ेगी, स्वास्थ की दृष्टि से भी इस वर्ष उतार चढ़ाव की स्थिति रहेगी कुल मिलाकर इस वर्ष मकर राशि के व्यक्तियों के लिए संघर्ष बढ़ेगा।

उपाय –

  1. हनुमान चालीसा का रोज पाठ करें।
  2. शनिवार को साबुत उडद गरीब व्यक्ति को दान करें।

 

कुंभ राशि – कुम्भ राशि वाले व्यक्तियों के लिए वर्षारम्भ सकारात्मक और शुभ परिवर्तन लेकर आएगा, वर्ष के आरम्भ में ही शनि का धनु राशि में प्रवेश कुम्भ राशि के लिए बहुत शुभ होगा जिससे धन लाभ और आय के स्त्रोतों में वृद्धि होगी, आत्मविश्वाश बढ़ेगा प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, अगस्त माह तक का समय आर्थिक उन्नति का होगा पर 17 अगस्त के बाद से धन खर्च बढ़ेंगे जिससे आर्थिक स्थिरता में कमी आएगी व्यय बढ़ेगा पर आय के स्त्रोत भी निरंतर बने रहेंगे, स्वास्थ की दृष्टि से यह वर्ष उतार चढ़ाव वाला रहेगा।

उपाय –

  1. ॐ बृम बृहस्पते नमः का नियमित जाप करें।
  2. प्रतिदिन कुत्तों को भोजन दें।

मीन राशि – मीन राशि के व्यक्तियों के लिए यह वर्ष मिश्रित फल देने वाला होगा स्वास्थ की स्थिति ठीक रहेगी, आत्मविश्वाश बढ़ेगा प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, किये गए प्रयासों में सफलता मिलेगी करियर में सकारात्मक परिवर्तन होंगे पर इस वर्ष अगस्त माह तक की स्थिति आथिक संघर्ष की रहेगी खर्च की अधिकता रहेगी और प्राप्त हुआ धन स्थिर नहीं हो पायेगा और व्यय की अधिकता के कारण आर्थिक संघर्ष की स्थिति रहेगी पर अगस्त माह के बाद चल रहे आर्थिक संघर्ष और अनियंत्रित खर्चों में कमी आएगी। 12 सितंबर के बाद का समय स्वास्थ में उतार चढ़ाव उत्पन्न करेगा।

उपाय –

  1. बुधवार को गणेश जी को बूंदी के लड्डू चढ़ाएं।
  2. प्रतिदिन कुत्तों को भोजन दें।

।। श्री हनुमते नमः।।

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.