जानिए क्या होता है वर्गोत्तमी ग्रह

जानिए क्या होता है वर्गोत्तमी ग्रह
 2835 Views
 0 Comments
 January 2, 2017

फलित ज्योतिष में हम बहुत बार वर्गोत्तमी ग्रह या ग्रह के वर्गोतमांश में होने की बात सुनते हैं या बहुतसे ज्योतिषीय लेखों में ग्रह के वर्गोत्तमी होने का जिक्र सामने आता है तो वास्तव में यह वर्गोत्तमी ग्रह होता क्या है आईये जानते हैं

ज्योतिष में फलित का मुख्य आधार या जन्मपत्रिका में ग्रहस्थिति के फल और परिणाम के लिएलग्न कुंडलीका ही विशेष महत्व  होता है और लग्न कुंडली में बनी ग्रहस्थिति ही हमारे जीवन चक्र को निश्चित करती है अतः ज्योतिष में फलित का आधार तो लग्न कुंडली ही होती है पर जीवन के अलग अलग पक्षों को विस्तृत और गूढ़ रूप में देखने के लिए लग्न राशि को अंशों के आधार पर विभिन्न भागों में बाटकर अलग अलग सोलह कुंडलियां बनाई जाती हैं जिसे ज्योतिष में षोडशवर्ग के नाम से जाना जाता है इनमे से प्रत्येक कुंडली जीवन के किसी एक विशेष पक्ष और लग्न कुंडली के किसी एक भाव का विस्तृत रूप ही होती है पर लग्न कुंडली के बाद षोडश वर्ग में से जो सर्वाधिक महत्वपूर्ण कुंडली मानी गयी है उसे नवमांश यानवांश कुंडलीकहते हैं और यही हमारे शीर्षक विषय का आधार है। 30 डिग्री की लग्न राशि को 9 बराबर भागों (3 अंश 20 कला) में बाटने पर नवांश कुंडली बनती है। फलित ज्योतिष में नवांश कुंडली को भी लग्न कुंडली के समतुल्य ही माना गया है इसलिए योग्य ज्योतिषी लग्न और नवांश दोनों कुंडलियों का विश्लेषण कर ही अंतिम निर्णय पर पहुँचते हैं, लग्न कुंडली में कमजोर ग्रह यदि नवांश कुंडलीं में बली या मजबूत हो जाये तो वह कमजोर ना रहकर मध्यम शुभ हो जाता है इसी प्रकार लग्न में बली होने पर यदि नवांश में कमजोर हो जाये तो पूर्ण बली ना होकर मध्यम बली माना जाता है।

वर्गोत्तमी ग्रहजब कोई भी ग्रह लग्न कुंडली और नवांश कुंडली दोनों में समान राशि में हो अर्थात यदि कोई ग्रह लग्न कुंडली में जिस राशि में स्थित है नवांश कुंडली में भी उसी राशि में स्थित हो तो ऐसे ग्रह को फलित ज्योतिष मेंवर्गोत्तमी ग्रहकहा जाता है उदाहरण के लिए यदि सूर्य लग्न कुंडली में मिथुन राशि में स्थित है और नवांश कुंडली में भी मिथुन राशि में है तो यहाँ सूर्य वर्गोत्तमी हो गया है। वर्गोत्तमी ग्रह को बहुत बली, मजबूत और शुभ फल देने वाला माना जाता है वर्गोत्तमी ग्रह स्वराशि में स्थित ग्रह की तरह बलवान होता है और बलवान ग्रह की तरह ही परिणाम देता है अतः कुंडली में यदि कोई ग्रह वर्गोत्तमी हो तो जीवन में उसके कारक तत्व अच्छी स्थिति में प्राप्त होते हैं, यदि कोई ग्रह स्व राशि या अपनी उच्च राशि में होकर वर्गोत्तमी हो तो बहुत विशेष बली और फलकारी होता है। अब वर्गोत्तमी ग्रह को लेकर कुछ विशेष बातें और समझनी चाहियें कुंडली में किसी भी ग्रह का वर्गोत्तमी होना निश्चित ही शुभ माना गया है पर यदि कोई ग्रह नीच राशि में बैठकर वर्गोत्तमी हो अर्थात लग्न कुंडली और नवांश कुंडली दोनों में ही नीच राशि में हो तो यहाँ ग्रह दोनों कुंडलियों में समान राशि में तो है पर यहाँ वर्गोत्तमी ग्रह अपना कोई परिणाम नहीं देता बल्कि और अधिक कमजोर हो जाता है क्योंकि लग्न और नवांश दोनों में ग्रह का बल मिलकर उसके निश्चित बल का आंकलन किया जाता है और ऐसे में यदि ग्रह लग्न और नवांश दोनों कुंडलियों में ही नीच राशि में हो तो वह निश्चित ही कमजोर ग्रह की श्रेणी में आता है और जीवन में संघर्ष उत्पन्न करता है।

।। श्री हनुमते नमः ।।

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.